Latest News

Friday, 17 February 2017

loading...

Breaking: अयोध्या में होगा राम मंदिर का निर्माण, मस्जिद का नही! पीएम मोदी ने लगा दी मुहर, देंखे video

अयोध्या महज एक शहर नहीं है, भगवान राम की जन्मस्थली है इसलिए ये हिंदुओं की आस्था का केंद्र है और यहां सदियों से भगवान श्री राम का नांद गूंजता है।  लेकिन इस राम नगरी में राम मंदिर का निर्माण वो मुद्दा है जो जहां से शुरू हुआ था आज भी वहीं खड़ा है। साल 1992 में बाबरी मस्जिद का ढ़ांचा गिरा दिया गया जिसके बाद से हर साल छह दिसंबर की तारीख को राम मंदिर के निर्माण का मुद्दा सुलगने लगता है। यूं तो राम मंदिर के निर्माण के मुद्दे को लेकर शुरु से ही राजनीति होती रही है और चुनावों के दौरान भी ये एक अहम मुद्दा बनता रहा है लेकिन क्योंकि केंद्र में बीजेपी की सरकार इसलिए यह मुद्दा इस बार के चुनावों में काफी जोर-शोर से उठाया जा रहा है।

अयोध्या में राम मंदिर के निर्णाण और विवाद की कहानी

6 दिसंबर, 1992 को अयोध्या का इतिहास और भूगोल बदल गया। अयोध्या में राम मंदिर को निर्माण को लेकर जिस जमीन पर दावा होता रहा है इस पर करीब साढे चार सौ साल से विवाद है। 2010 में इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला आया और हाईकोर्ट ने ज़मीन को तीन हिस्सों में बांट दिया। जिसमें दो तिहाई हिस्सा हिन्दू पक्ष को मिला और एक तिहाई सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड को मिला। लेकिन, इस फैसले से कोई भी पक्ष संतुष्ट नहीं हुआ, और ये मामला सुप्रीम कोर्ट में लंबित है। उत्तर प्रदेश में 2017 में विधानसभा चुनाव शुरु हो चुके हैं ऐसे में राम मंदिर का मुद्दा एक फिर राजनीतिक अखाड़े का सबसे बड़ा दांव बन चुका है।

पीएम मोदी का राम मंदिर पर दिया बयान हुआ वायरल

उत्तर प्रदेश में चुनावी जंग शुरु हो चुका है। कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के नेता कई बार आरोप लगते हुए दिखे हैं की भाजपा को राम मंदिर का मुद्दा सिर्फ चुनाव के समय याद आता है। ऐसे में इन दिनों पीएम मोदी का राम मंदिर पर दिया हुआ एक पुराना बयान काफी वायरल हो रहा है। इस वीडियो में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण को लेकर एक बयान दिया है, जो भाजपा के लिए राम मंदिर क्या मायने रखता है इस बारे में दिखाता है।

देखें वीडियो



No comments:

Post a Comment