Latest News

Thursday, 29 December 2016

BREAKING: बंगाल मुद्दे पर बोले मोदी - अगर बंगाल में अब खून की बूंद भी गिरीं तो...पढ़े पूरी खबर

आखिरकार बंगाल दंगो पर केंद्र सरकार ने चुपी तोड़ी व दंगो कि निंदा के साथ-साथ ममता को भी जमकर लताड़ लगाई. pm मोदी ने दंगो कि निंदा करते हुए कहा बंगाल में हालत पर तुरंत काबू पाया जाये. और खून खराबा बर्दास्त नही किया जायेगा. चाहे वो हिन्दू हो या मुसलमान, सिख हो या इसाई सभी धर्मो कि रक्षा करना हमारा कर्तव्य है. भारत में सभी धर्म के लोगो को सामान अधिकार है. धर्म के नाम पर खून खराबा चिंतनीय है. मोदी ने ममता पर तीखा वार करते हुए कहा कि चाहे बंगाल हो या गुजरात, जम्मू कश्मीर हो या केरल धार्मिक दंगे भारत जैसे देश में चिंता का विषय है.

पश्चिम बंगाल के धुलागढ़ में सांप्रदायिक हिंसा के चलते बीजेपी और तृणमूल एक बार फिर आमने-सामने हैं. बीजेपी ने तृणमूल पर राज्य को बम फैक्ट्री बनाने का आरोप लगाया है. यहां पुलिस ने नेताओं के आने पर रोक लगा दी तो बीजेपी ने पुलिस पर तृणमूल का पक्ष लेने का आरोप मढ़ दिया था. पश्चिम बंगाल में मालदा के बाद धुलागढ़ अब हिंसा का केंद्र बना है.

पूरा देश हुआ एकजुट

हिन्दु युवा वाहिनी के जिलाध्यक्ष विराज ठाकुर के नेतृत्व में शुक्रवार को बंगाल में हो रहे उत्पीड़न के विरोध में जेसीज चौराहे स्थित कार्यालय से अम्बेडकर तिराहे तक सैकड़ों बाइक की रैली निकाल कर नारे बाजी तथा प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर विराज ठाकुर ने कहा कि देश में मुस्लिम तुष्टीकरण की राजनीति खत्म होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि बंगाल में हिन्दू दलित बस्तियों को आग के हवाले कर दिया गया और खुलेआम हिन्दुओं की निर्ममता से हत्या की गयी और अब यह कत्तई बर्दाश्त नहीं किया जायेगा।

उन्होंने कहा कि अगर सरकार ने दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं की और मुस्लिम अराजक तत्वों पर नकेल नहीं कसी तो जौनपुर में रह रहे बांग्लादेशियों और ईरानियों का भी वही हस्त्र किया जायेगा, जो बंगाल व बांग्लादेश में हिन्दुओं का हो रहा है। इस मौके पर अवकाश सिंह, विशाल शुक्ला, अमित शुक्ला, सुशील गिरि, सनी सिंह, विपिन दूबे, अश्विनी सिंह, प्रिन्स, सतीश आदि सैकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहें।

पश्चिम बंगाल के कुछ हिस्से एक बार फिर साम्प्रदायिक दंगों के चपेट में हैं। पश्चिम बंगाल के हावड़ा जिले में धुलागढ़ क्षेत्र में एक शिव मंदिर को तोडा गया जिसके बाद इलाके में तनाव का माहौल है।

इस इलाके में तीन दिनों तक लोगो के घरों में हमले हुए, उन्हें लूटा गया। लोगो के साथ मारपीट की गयी। माहौल बिगड़ते देख पुलिस, आरएएफ और फायर ब्रिगेड तैनात किया गया है जो संयुक्त रूप से स्थिति को नियंत्रित करने का प्रयास कर रहे हैं।इससे पहले 12 अक्टूबर को हिंसा की शुरुआत पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना ज़िले से हुई, जहां कथित तौर पर मुहर्रम के जुलूस में एक low-intensity का बम फेंका गया। हालांकि इसमें कोई जख्मी नहीं हुआ, लेकिन इसके बाद हिंसक भीड़ ने हिंदुओं के घरों को जला दिया। और देखते ही देखते हिंसा की ये आग 5 ज़िलों में फैल गई। पश्चिम बंगाल के उत्तरी 24 परगना, हावड़ा, पश्चिमी मिदनापुर, हुगली और मालदा जिले हिंसाग्रस्त हुए थे।


No comments:

Post a Comment