Latest News

Sunday, 25 December 2016

loading...

भारत में हिन्दुओ की जनसंख्या वृद्धि दर में गिरावट तो मुस्लिमो में भारी बढोतरी, 2050 तक भारत में सबसे...

2050 तक भारत दुनिया में सबसे ज्यादा मुस्लिम आबादी वाला देश बन जाएगा. 2070 तक इस्लाम को मानने वालों की संख्या दुनिया में सबसे ज्यादा होगी. आंकड़ों के विश्लेषण के लिए चर्चित एक अमेरिकी संस्था प्यू की एक ताजा रिपोर्ट में यह बात कही गई है. द फ्यूचर ऑफ वर्ल्ड रिलीजन नाम की इस रिपोर्ट का आधार विभिन्न देशों की जनगणना रिपोर्टें और जन्म-मृत्यु दर जैसे आंकड़े हैं.
इस रिपोर्ट के मुताबिक अगले चार दशकों के दौरान ईसाई सबसे बड़ा धार्मिक समूह बने रहेंगे लेकिन, इस्लाम को मानने वालों की आबादी बाकी धर्मों के अनुयायियों के मुकाबले तेजी से बढ़ेगी. 2050 तक मुस्लिम जनसंख्या 2.8 अरब यानी दुनिया की कुल आबादी का 30 फीसदी हो चुकी होगी जबकि 2.9 अरब जनसंख्या के साथ ईसाई समुदाय के लिए यह आंकड़ा 31 फीसदी होगा.  2010 में यह संख्या क्रमश: 1.6 और 2.17 अरब थी. रिपोर्ट के मुताबिक मुस्लिम आबादी अगर इसी रफ्तार से बढ़ी तो 2070 तक इस्लाम को मानने वालों की आबादी दुनिया में सबसे ज्यादा होगी.


1991 में हिन्दुओं की वृद्धि दर 22.8 प्रतिशत और 2001 में 20 प्रतिशत बताई गई। जहां पहले जारी किए गए आंकड़ों में मुसलमानों की वृद्धि दर हिन्दुओं से 15.7 प्रतिशत अधिक है तो दूसरी बार में भी मुसलमानों की वृद्धि दर हिन्दुओं की तुलना में 9.3 प्रतिशत अधिक है।

भारत के लिए लगातार बढती जनसंख्या चिंता का विषय बनी हुई है, अगर इसी प्रकार से चलता रहा तो कुछ ही सालो में भारत सबसे अधिक जनसंख्या वाला देश बन जायेगा. इंदिरा गाँधी ने नारा दिया था की ‘हम दो हमारे दो’! इसका प्रभाव कुछ दिखाई दिया है कुछ शिक्षित वर्ग के लोगो ने इसे बखूबी अपनाया है, लेकिन भारत में आज भी बहुत से समुदाय शिक्षा कि कमी के कारण 5-5 बचे पैदा कर लेते है, एक रिपोर्ट के मुताबिक हिन्दू समुदाय में जनसंख्या वृद्धि दर में कमी आई है वही मुस्लिम समुदाय में भारी उछाल आया है.


ऐसे में सोशल मिडिया पर viral हो रहा है कि जब मुस्लिम लोगो ने आरक्षण कि मन कि तो लोगो ने कहा कि पहले आपको नसबंदी कि जरूरत है, लिहाजा देखा जाता है कि लगभग मुस्लिम परिवार परिवार नियोजन संबंदी कोई उपाय नही अपनाते है और आज भी कई लोग 10-10 बचो को जन्म देते है 

No comments:

Post a Comment