Latest News

Sunday, 25 December 2016

loading...

बंगाल के लोगो ने लगाई मदद कि गुहार, देशभर के हिन्दुओ को एकजुट होकर बंगाली भाइयो को बचाना होगा

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि मालदा जिला के चांचल थाना क्षेत्र में स्थित चंद्रपाड़ा और कोलीग्राम जैसे गांवों पर करीब 10 हजार से अधिक मुस्लिम कट्टरपंथियों की उग्र भीड़ ने हमला कर दिया। दंगाइयों ने अल्पसंख्यक हिन्दुओं को बचाने के लिए आई पुलिस को भी निशाना बनाया, जिसमें दो पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल हुए हैं।

video

भारत के इतिहास में सबसे भयानक साम्प्रदायिक दंगे बंगाल में हुए जिनमें बंगाली हिन्दुओं का इतना भयावह नरसंहार हुआ कि नोआखाली,जेसोर आदि जगहों पर लाखों हिन्दुओं की लाशें महीनों सड़ती रहीं और उन्हें गिद्ध एवं कुत्ते नोचते रहे। 5 करोड़ से ज्यादा बंगाली लापता हो गये उनका कुछ पता नहीं चला।
video

1947 से 1971 तक चले योजनाबद्ध दंगों में कुल मिलाकर लगभग 1 करोड़ से भी ज्यादा बंगाली महिलाओं का बलात्कार हुआ। उनकी नंगी लाशों को पेड़ों से लटका दिया गया या फिर जला दिया गया

लगभग दो दशकों तक अलगाववादी मुसलमानों द्वारा हिन्दुओं को पूर्वी बंगाल से खदेड़ने की रणनीति आखिर सफल हुई और धार्मिक एकता के घनघोर अभाव में जी रहे बंगालियों से उनकी ही मातृभूमि का एक विशाल हिस्सा उनसे छिन गया।

आज आजादी के छह दशकों बाद बंगाल फिर से उसी मोड़ पर खड़ा हो गया है। अगर बंगाल के हिन्दू अब भी धार्मिक रूप से एकजुट नहीं हुए एवं इतिहास से सबक नहीं लिया तो शायद उनकी फिर से वही दशा न हो जाए।

बंगाल में हिन्दू धार्मिक संगठन मजबूत ही नहीं हो पा रहे हैं इसका प्रमुख कारण आम जनता की धार्मिक एकता के प्रति उदासीनता ही है।वहीं अत्याधिक मुस्लिम बंगलादेशियों की घुसपैठ ने पहले से ही अल्पसंख्यक होते जा रहे हिन्दुओं की धार्मिक जनसंख्या अनुपात को बुरी तरह से बिगाड़ना शुरू कर दिया है।


जागो हिन्दू जागो। बांग्लादेश से भगाया तो पद्मा नदी पार कर यहाँ आये..अब यहाँ से भगायेंगे तब कहाँ जाओगे..???

No comments:

Post a Comment