Latest News

Sunday, 23 October 2016

loading...

BIG-NEWS: भारत के एक झटके से बर्बाद हुआ चीन, चला गया 6 साल पीछे... पढ़े पूरी खबर...

India China से सालाना 61 अरब डॉलर का सामान आयात करता है, जबकि भारत मात्र 9 अरब डॉलर का सामान चीन को निर्यात करता है। India इस समय China का सबसे बड़ा बाजार है।

China के Product के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूटने लगा है। चीन के प्रोडक्ट जल्द ही भारतीय मार्केट से गायब होते नजर आएंगे। अगर ऐसा हो गया तो चीन की अर्थव्यवस्था पूरी तरह धड़ाम हो जाएगी। और चीन रोड पर आ जायेगा।

हमारा भारत एक परिवार है और इसके प्रति हमारा सबका उतरदायित्व बनता है। हमे देश कि जनता को जागरूक करना होगा और हमे अधिक से अधिक स्वदेशी सामान का उपयोग करना होगा। अभी तो सिर्फ चाइना के विरुद्ध आज ही उठी है और चीन 5 साल पीछे चला गया। तो सोचो दोस्तों हमने चाइना के सामान का पूर्ण रूप बहिस्कार कर दिया तो चीन हमारे घुटने में आ जायेगा। भारत चाइना का सबसे बड़ा बाजार है। आज भारत का सबसे बड़ा रोड़ा चीन ही है जो भारत को वीटो पॉवर नही मिलने दे रहा है। अगर भारत का हर नागरिक इस टोपिक पर सिर्फ 10 मिनिट दे देगा तो हमारे आने वाली पीढ़ी का भविष्य और हमारा भारत एक बार फिर दुनिया में अलग ही अन्दांज से होगा। आज दुनिया भारत कि युवा ताकत से डरती है तो दोस्तों वो समय आ गया है। दिखा दो चीन को अपनी ताकत जिसने भारतीय लोगो को नाकारा बताया था और कहा था कि भारत चीन पर आश्रित है। इससे हमारे देश कि सबसे बड़ी समस्या का समाधान हो जायेगा एक तो देश के लोगो को रोजगार मिलेगा और बेरोजगारी खत्म हो जाएगी। जागो दोस्तों जागो आज हमे भारत माँ का कर्ज चुकाना है दोस्तों इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करे, अपने देश के प्रति अपनी अपनी जिम्मेदारी निभाए। जय हिन्द-जय भारत...

Sunday के  'आप' ट्रेड विंग ने चीन के उत्पादों की बिक्री के विरोध में करोलबाग में जागरूकता अभियान चलाया। इस दौरान करोलबाग मार्केट में पदयात्रा भी निकाली गई। दुकानदारों को चीनी भगाओ, स्वदेशी अपनाओके पैम्पलेट भी बांटे गए।

यह अभियान आप ट्रेड विंग के संयोजक बृजेश गोयल की अगुवाई में चलाया गया। गोयल ने कहा कि चीन आतंकी पाकिस्तान का खुलेआम समर्थन कर रहा है, इस कारण चीन भी हमारा पाकिस्तान के बराबर शत्रु है। इसलिए चीन की अर्थव्यवस्था को कमजोर करना जरूरी है।


3 comments:

  1. भारत वर्ष का एवं हमारे नागरिकों का विकास तभी संभव है जब हम "स्वदेशी अपनाएँगे" | नमक से ले कर विमान तक सब वस्तुएें स्वयं अपने देश में बनाएँगे | हमें सबसे बड़ा आयातक नहीं अपितु सबसे बड़ा निर्यातक देश बनने का स्वर्णिम गौरव हासिल करने के लक्ष्य पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए | भारत माता की जय जय कार का नारा संपूर्ण विश्व में गूँज उठेगा |



    ReplyDelete
  2. जन्म कुंडली संबंधित सेवा के लिए कृपया बाबा जी से संपर्क करें | +91-9958854900
    www.janamkundali.org

    ReplyDelete