Latest News

Friday, 21 October 2016

loading...

BIG-BREAKING: चीन ने दिया PAK को बड़ा झटका, गैस प्रोजेक्ट के लिए टर्मिनल बनाने से किया मना, पाक में छाया मातम...जय हिन्द

इस्लामाबाद (21 अक्टूबर):दुनियाभर में पाकिस्तान की खराब छवि के असर को देखते हुए उसके दोस्ती चीन ने भी उससे हाथ पीछे खींचना शुरू कर दिया है। चीन ने पाकिस्तान के ग्वादर पोर्ट पर लिक्विफाइड नैचुरल गैस (LNG) टर्मिनल बनाए जाने के प्रपोजल से मना कर दिया है। चीन इस समय आर्थिक मंदी से गुजर रहा है और भारत में चीनी सामान का विरोध हो रहा है। इस समय चीन कि नींद उडी हुई है क्योकि चीन कि लगभग अर्थव्यवस्था भारत पर टिकी हुई है। आखिरकार चीन को भी अपनी औकात पता चल ही गयी।


पाक ने चीन को इस प्रोजेक्ट को बिल्ड एंड ऑपरेट (बनाकर शुरू करने) का 14 हजार करोड़ का प्रपोजल दिया था। चीन ने कहा कि वह इसमें इंजीनियरिंग, कंस्ट्रक्शन समेत इंतजामों में मदद तो करेगा, लेकिन बाकी चीजों से दूर रहेगा।

- एक ऑफिशियल ने बताया, "हमने चीन को ग्वादर पोर्ट पर गैस टर्मिनल को बिल्ड एंड ऑपरेट का प्रपोजल दिया था। लेकिन चीन ने इस पर पुनर्विचार करने को कहा।"
- "अब पाकिस्तान ही प्रोजेक्ट को बनाएगा और ऑपरेट करेगा। चीन इसमें इंजीनियरिंग और कंस्ट्रक्शन में मदद करेगा।"
- पाक अफसर के मुताबिक, ग्वादर पोर्ट पर कम कीमत में दो तैरते एलएनजी टर्मिनल बनाए जाएंगे।
- इससे रोज 1.2 बिलियन क्यूबिक फीट गैस रोजाना (बीसीएफडी) इम्पोर्ट की जा सकेगी।
- अफसर के मुताबिक, "प्राइस को लेकर भी बैठक हो चुकी है। चीन का एग्जिम बैंक, लंदन इंटर-बैंक ऑफर्ड रेट (Libor) से 2 फीसदी ज्यादा पर फाइनेंस करेगा।"
- ग्वादर एलएनजी टर्मिनल को 30-32 सेंट्स/मिलियन ब्रिटिश थर्मल यूनिट्स (mmbtu) की टोल फी देनी होगी।
- बता दें कि दूसरा एलएनजी टर्मिनल पोर्ट कासिम पर बनाया जाएगा। इसके लिए टोल फी 41.70 सेंट्स mmbtu का प्रोविजन रखा गया था। पोर्ट कासिम पर एक टर्मिनल काम कर रहा है।
- फिलहाल, पाक की पेट्रोलियम मिनिस्ट्री प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। इसे जल्द ही प्लानिंग कमीशन के पास अप्रूवल के लिए भेजा जाएगा।

- पाकिस्तान ग्वादर एलएनजी पाइपलाइन को ईरान बॉर्डर तक 80 किमी बढ़ाने की भी प्लानिंग कर रहा है।

No comments:

Post a Comment