Latest News

Thursday, 1 September 2016

loading...

कैसे पता करे आपकी गर्लफ्रेंड वर्जिन है या नही.. यहाँ जानिए!

नई दिल्ली : अक्सर लोग वर्जिनिटी को लेकर एक-दुसरे से बहस करते हैं। हम आपको बता दे कि कुछ लोगों का मानना है कि लड़की का वर्जिन होना ज़रूरी हैतो कुछ लोग इसे दकियानूसी सोच का एक प्रमाण मात्र मानते हैं।

पहले लोग वर्जिनिटी को लड़के के सेक्स संबंधों से दूरी का सबूत मानते थेलेकिन जैसे-जैसे साइंस तरक्की करता गया हैवैसे-वैसे यह तथ्य गलत साबित होता गया है। ऐसे में वर्जिनिटी के बारे में आप कितने सहीं है और कितने गलतआप खुद जान लीजिये.

अगर डॉक्टर्स की मानेतो वर्जिनिटी जैसा कुछ नहीं होता। यह सिर्फ लोगों द्वारा रचा गया एक शब्द हैजिसका इस्तेमाल बस युवतियों को उनके चरित्र का प्रमाण पत्र देने के लिए इस्‍तेमाल किया जाता है। जब हम वर्जिन ये शब्द इस्तेमाल करते हैंतो लोग सोचते हैं कि उस युवती ने पहले कभी किसी लड़के के साथ सेक्स सम्बन्ध नहीं बनाए हैं। लेकिन इसका सम्बन्ध लड़की के सेक्स संबंधों से नहींबल्कि उसके प्राइवेट पार्ट पाई जाने वाली हाइमन से हैंजिसका टूटना या नष्‍ट होनावर्जिन न होने की पहचान के रूप में देखा जाता है।

डॉक्टरों की माने तो हायमन के फटने का शरीरिक संबंधों से कोई लेना-देना नहीं होता। ये सच है कि सेक्स के दौरान हायमन डैमेज हो जाता हैपर ज़रूरी नहीं कि हर बार इसके डैमेज होने का यही कारण हो। लेकिन 90 प्रतिशत महिलाओं में यह साइकिल चलाने,  घुड़सवारी करनेडांस करने या किसी भी तरह की दूसरी फिजिकल एक्‍टिविटी के कारण पहले ही नष्‍ट हो चुकी होती है। और हम आपको बता दे कि इससे युवती के चरित्र का अंदाजा लगाना अपने आप को धोखा देने के जैसा हो सकता है।


इसलिए महिला के वर्जिनिटी का टेस्ट लेना समाज के पिछड़ेपन की निशानी हो सकती है। बता दे कि ये सब बेकार की बाते होती है ऐसा कुछ नही होता.

No comments:

Post a Comment