Latest News

Health Tips
Relationship

Tranding

Technology

Education

Sports

Recent Posts

Tuesday, 28 March 2017

बड़ी खबर: ‘नजफगढ़ के नवाब’ वीरेंद्र सहवाग की वापसी, एक बार फिर उतरेंगे मैदान में...

युवराज सिंह ने वनडे क्रिकेट में जिस प्रकार तीन साल के बाद वापसी की और अपने करियर की सबसे बड़ी पारी (150 रन) खेली उससे अब एक और विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग की वापसी की अटकलें लगाई जा रही हैं.


टीम इंडिया को एक अदद ओपनर की तलाश 
पिछले एक साल के दौरान खेली गई 12 पारियों के दौरान भारत की ओर से केवल एक ओपनिंग शतकीय साझेदारी (जिम्बाब्वे के खिलाफ) हुई है. एक साल पहले रोहित शर्मा ने पर्थ में 151 और ब्रिसबेन में 124 रनों की पारी खेली थी तो शिखर धवन का बल्ला भी पिछले साल जनवरी में एक अर्धशतक (मेलबर्न में 68 रन) और एक शतक (कैनबरा में 126 रन) जमाने के बाद से लगभग खामोश रहा है.

बतौर ओपनर धवन और रहाणे नहीं चले 
इस बीच शिखर धवन और रोहित शर्मा चोटिल होने की वजह से टीम से बाहर भी रहे. टीम इंडिया ने लोकेश राहुल और अजिंक्य रहाणे से भी पारी की शुरुआत कराई लेकिन जिम्बाब्वे के खिलाफ राहुल के एक शतक के अलावा बात नहीं बनी. रोहित जहां अभी भी चोटिल हैं वहीं धवन की टीम में वापसी हुई लेकिन इंग्लैंड के खिलाफ पहले दो वनडे में ना तो वो चले और न ही राहुल. शिखर ने 1 और 11 तो राहुल ने 5 और 1 रन की पारी खेली.

क्यों हो सकती है सहवाग की वापसी? 
सहवाग ने 251 वनडे मैचों के अपने करियर के दौरान 15 शतक, 38 अर्धशतकों और 35.06 के औसत की मदद से 8273 रन बनाए हैं. इस दौरान उनका स्ट्राइक रेट 104.33 का रहा. होल्कर स्टेडियम में दिसंबर 2011 में महज 149 गेंदों पर 219 रनों की पारी वनडे में सहवाग का सर्वोच्च स्कोर है. 15 में से 14 शतक और 38 में से 35 अर्धशतक के साथ ही 8273 में से 7518 रन सहवाग ने बतौर ओपनर बनाए हैं. इतना ही नहीं, सहवाग के नाम इंटरनेशनल क्रिकेट में लगभग 17 हजार रन बनाने का अनुभव भी हैं. हालांकि उनकी उम्र 38 साल की हो गई है इस वजह से वो मास्टर्स क्रिकेट में खेलने चले गए थे. लेकिन जब सहवाग पिच पर डटे हों तो उनका खौफ किस कदर गेंदबाजों और विपक्षी कप्तान पर हावी होता है इसे यूं समझा जा सकता है.

सहवाग हैं ‘किंग ऑफ इंटरटेनमेंट’ 
सहवाग की विस्फोटक बल्लेबाजी पर कमेंटेटर और पूर्व भारतीय स्पिनर लक्ष्मण शिवरामाकृष्णन ने एक बार कहा था कि ‘सहवाग बॉल को हिट करना चाहते हैं तो बॉलर कितना भी अच्छा क्यूं न हो भगवान उसे बचाए जो उनकी राह में खड़ा है.’

ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज ब्रेट ली ने सहवाग के विषय में कहा था कि ‘इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने भी अनुभवी और बेहतर हैं, सहवाग आपके मनोभाव को तहस नहस कर देगा.’ तो ली के ही टीम मेट ग्लेन मैग्रा का कहना था कि उन्होंने ‘सहवाग जैसा अप्रत्याशित बल्लेबाज अपने करियर में नहीं देखा.’

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान रमीज राजा सहवाग को ‘किंग ऑफ इंटरटेनमेंट’ कहा करते थे. वहीं भारत के महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर कहते थे कि मुझे सहवाग से नर्वस 90 में खेलना सीखना होगा. इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वॉन ने सहवाग को दुनिया का सबसे निडर बल्लेबाज बताया था.

पाकिस्तान के वकार यूनिस सहवाग के बारे में कहते थे कि ‘आप 298 पर खेल रहे हो इसके बावजूद छक्के से तिहरा शतक बनाते हैं. यह असंभव सा दिखता है. निश्चित ही आप जीनियस हैं.’ दुनिया के महान लेग स्पिनर शेन वॉर्न सहवाग को अपनी सर्वकालिक टीम में तो रखना और उनकी बल्लेबाजी को देखना चाहते है लेकिन सहवाग के खिलाफ बॉलिंग करना वॉर्न को पसंद नहीं.

सहवाग ने ट्विटर को बनाया बैटिंग पिच 
दूसरी तरफ आज कल बल्ले की जगह अपने ट्वीट से धूम मचा रहे सहवाग ने धोनी और युवी की पारी पर बेहतरीन कमेंट किया. उन्होंने धोनी और युवी की तस्वीर के साथ लिखा कि केवल पुराने नोट ही चलन में नहीं रहे और साथ ही उन्हें इस पारी की बधाई दी.

 

अब जबकि युवराज सिंह वापसी के बाद अपने शानदार फॉर्म में दिख रहे हैं. कप्तान विराट और पूर्व कप्तान धोनी भी अपने बल्ले से रन बरसा रहे हैं. तो मध्यक्रम तो मजबूत दिख रहा है लेकिन टीम को मैच दर मैच अच्छी ओपनिंग की कमी खल रही है. ऐसे में चार साल पहले पाकिस्तान के खिलाफ ईडन गार्डन्स पर अपना आखिरी वनडे खेलने वाले विस्फोटक बल्लेबाज सहवाग के मन में भी कहीं न कहीं वापसी के विचार जगने लगे होंगे. साथ ही उनके प्रशंसकों के दिमाग में भी यह प्रश्न उठने लगे हैं कि क्या अब सहवाग की भी टीम इंडिया में वापसी होगी. इतना ही नहीं, अगर ऐसा होता है तो यह अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से उन्हें अपने विस्फोटक अंदाज में संन्यास लेने का बेहतरीन मौका भी होगा.

बड़ी-खबर: अभी-अभी योगी आदित्यनाथ ने दी up मुस्लिमों को कड़ी चेतावनी, 3 दिन के भीतर छोड़ दे up वरना.. पढ़ें पूरी खबर...

अपने गोरखपुर दौरे के दूसरे दिन पार्टी के दफ्तर में आदित्यनाथ योगी ने सूबे की जनता को बड़े-बड़े सपने दिखाए और कहा कि अगले दो महीने के भीतर सरकार क्या होती है इसका एहसास हो जाएगा.


अपनी पुरानी छवि से बाहर आते हुए उन्होंने कहा कि बीजेपी को बड़ी जीत मिली है और पार्टी ने 403 में से 325 सीटें जीती हैंइसलिए जिम्मेदारी बढ़ गई है और अपनी इस जिम्मेदारी निभाने के लिए जमकर काम किया जाएगा.

बेहतर और साफ सुथरा विकास का मॉडल पेश करते हुए आदित्यनाथ योगी ने कहा, “हमें आने वाले 2 सालों में हर मौसम और तकलीफ को भूलकर काम करना है. सरकार का कोई व्यक्ति ठेकेदारी ना करे बल्कि उसे मॉनिटर करे.

आपको बता दें कि गोरखपुर का दो दिन का दौरा खत्म कर सीएम आदित्यनाथ योगी शाम को लखनऊ लौट आए हैं.


सिर्फ मैसेज कर देंकाम हो जाएगा:
सरकार में लोगों के भरोसे को जगाने के लिए आदित्यनाथ योगी ने कहा कि कहीं ग़लत काम हो रहा हो तो सिर्फ उन्हें मैसेज कर देंवो सब दुरुस्त कर देंगे. उन्होंने सरकार और संगठन में बेहतर संवाद और तालमेल का भी आह्वान किया.

खुद की सरकार को हर वक़्त हरकत में रहने वाली और जमकर काम करने वाली बताते हुए उन्होंने कहा, “हम 18 से 20 घंटे काम करने आए हैं. जो इतना काम कर सकते हैं रहें या जाएं. UP अपराध मुक्त होगा. किसी को भूखा नहीं सोने देंगे.

विकास को आखिरी आदमी तक पहुंचाने का वादा करते हुए आदित्यनाथ योगी ने कहा कि वो रणनीति बनाने वाले हैंअंतिम व्यक्ति तक सरकार का काम पहुंचेइसकी शुरुआत करने वाले हैं.

यूपी में विकास हो सकता है और यहां के लोगों को पलायन की जरूरत नहीं हैइस बात का भरोसा दिलाते हुए आदित्यनाथ योगी ने कहा, “हमें नकारत्मकता से दूर रहना है और सकारात्मक होकर काम करना है ताकि उत्तर प्रदेश से कोई पलायन ना करे.

समाजवादी सरकार की छवि पर हमला करते हुए खुद की सरकार को नई सरकार बताने की कवायद में सीएम ने कहा कि यूपी की पहचान बदलेगी. कानून का राज होगाबिजली होगीभ्रष्टाचार मुक्त प्रदेश होगा. माताएं-बहनें सुरक्षित महसूस करेंगीऔर यही उत्तर प्रदेश की पहचान होगी.


और बड़ी जीत की गुंजाइश:
आदित्यनाथ योगी ने कहा कि दो साल में लोकसभा चुनाव होने हैं और पहले से भी अच्छे प्रदर्शन की गुंजाइश है. पिछले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने सूबे की 80 में 73 सीटें जीती थीं.


हम यहाँ मुस्लिमों का जिक्र इसलिए कर रहे हैं क्योंकि उत्तरप्रदेश में अधिकतर गुंडे मुस्लिम युवक हैं| और सिर्फ उन्ही मुसलामनों को up छोड़ने के कहा है जो गुंडे हैं, बाकि मुस्लिम निश्चिन्त रहें|

माता के भक्त मोदी और योगी का शक्ति की उपासना के लिए आज से नौ दिन का अखण्ड व्रत

नई दिल्ली: आज से चैत्र नवरात्र शुरू हो गए हैं और हर साल की तरह प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को इस साल भी आज से नौ दिन के उपवास पर है. जी हां पीएम मोदी ने आज व्रत रखा है और उनका ये उपवास 9 दिन तक चलेगा.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज सुबह सभी देशवासियों को नवरात्रि की शुभकामनाएं भी दी है. उन्होंने लिख है नववर्ष और नवरात्रि की देशवासियों को कोटि-कोटि बधाई. नवसंवत्सर हम सभी के जीवन में समृद्धि, खुशहाली और अच्छा स्वास्थ्य लेकर आए.
नववर्ष और नवरात्रि की देशवासियों को कोटि-कोटि बधाई। नवसंवत्सर हम सभी के जीवन में समृद्धि, खुशहाली और अच्छा स्वास्थ्य लेकर आए।

नवरात्रि के दिनों में मां पसंद करती हैं ये भोग, जानें किस दिन क्या चढ़ाएं...
जहां तक की नौ दिन के व्रत की बात है तो पीएम मोदी पिछले चालीस सालों से लगातार व्रत रखते आए हैं. पीएम मोदी दुनिया में चाहें कहीं भी हों नौ दिन का व्रत जरूर रखते हैं. पूरे नौ दिन तक पीएम अनाज का एक दाना भी मुंह में न डालकर केवल फल और नींबू पानी पर ही पूरे नौ दिन बीता देते हैं.
इतना ही नहीं पीएम मोदी जब साल 2014 में अमेरिका गए थे उस दौरान भी उनका नौ दिन का व्रत था. लेकिन अमेरिका में कई कार्यक्रमों में हिस्सा लेने के बाद भी उन्होंने केवल नींबू पानी ही पिया था.
नवरात्रि के शुभ मुहूर्त पर इस विधि से करेंगे कलश स्थापना तो बनेगी मां दुर्गा की कृपा
वहीं नवरात्र की बात की जाए तो हम यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कैसे भूल सकते हैं. जी हां सीएम योगी आदित्यनाथ भी आज से नौ दिन के उपवास पर हैं. सीएम योगी भी आज से अन्न त्याग कर नौ दिन तक केवल फल और नींबू पानी पर हा पूरा दिन बिताएंगे.
बता दें कि योगी आदित्यनाथ का अध्यात्म से गहरा और पुराना नाता है. क्योंकि योगी यूपी के सीएम होने के साथ-साथ एक महंत भी हैं और पूजा पाठ तो उनकी दिनचर्या का अहम हिस्सा है. 
बता दें कि नवरात्र मां दुर्गा के प्रति आस्था और विश्वास का व्रत है. इन दिनों मां के भक्त नौ दिनों तक, जप जैसे विभिन्न अनुष्ठानों से माता को प्रसन्न कर उनसे आशीर्वाद मांगते है. वैसे तो साल में चैत्र, आषाढ़, आश्वनि और माघ महीनों में चार बार नवरात्रि आती है. लेकिन चैत्र और आश्विन माह की नवरात्रि को प्रमुख माना जाता है. जिसमें माता के भक्त प्रतिपदा से नवमी तक माता के अलग-अलग रुपों की पूजा अर्चना करते हैं. नवरात्रि पर देवी पूजन और नौ दिन के व्रत का बहुत महत्व है. 

Monday, 27 March 2017

आजम खान हुए शाकाहारी, मुसलमानों से की अपील - देश की एकता के लिए शाकाहारी बनो...

योगी इफ़ेक्ट है की आज़म खान ने मांस खाना छोड़ दिया है 

जी हां आज़म खान ने ऐलान किया है की वो अब मांस नहीं खाएंगे, और साथ ही साथ आज़म खान ने देश के सभी मुसलमानो से भी अपील की है की, वो भी शाकाहारी बने 
जिस से देश में एकता और सांप्रदायिक सौहार्द आ सके 

आज़म खान ने मुसलमानो से ये भी अपील की है की वो कत्लखाने बंद करें और कोई अन्य अच्छा व्यापार करे, देश में व्यापार करने के लिए बहुत कुछ है 

बता दें की यूपी में योगी सरकार के आने के बाद से ही सख्ती से गैर क़ानूनी कत्लखाने बंद किये जा रहे है 
जिसके बाद सेक्युलर और जिहादी तत्व बहुत आक्रोशित नजर आ रहे है 
यही सेक्युलर और जिहादी तत्व गैर क़ानूनी कार्यों में लिप्त रहे है 

अब योगी जी का इतना खौफ है की आज़म खान "योगी योगी" कर रहे है, बता दें की योगी सरकार पिछली सरकार में दौरान हुए घोटालों की भी जल्द जांच करवाने वाली है, जिसकी जांच आज़म खान तक आनी भी तय है, और इसी कारण आज़म खान योगी आदित्यनाथ की वंदना करने लगे है 

ऐसे ही हालात रहे तो आज़म खान जल्द घर वापसी भी कर सकते है, ताकि योगी जी का प्रकोप उनको राख न कर दे 

Saturday, 25 March 2017

BREAKING: योगी जी व मौर्य की सीटों पर दुबारा होंगे चुनाव, सपा व बसपा ने लगाया था EVM में गड़बड़ी का आरोप...


लखनऊ। प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के तौर पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने कार्यभार संभाल लिया है. तो वही उप मुख्यमंत्री के तौर पर केशव प्रसाद मौर्य ने भी अपना पद भार ग्रहण का लिया है. चुनाव की नतीजा आने के बाद EVM का मुद्दा जोरों पर था. लेकिन EVM मशीन में गड़बड़ी को लेकर चुनाव आयोग ने सभी आरोपों को खारिज कर दिया था.
ख़बरों के अनुसार अब योगी आदित्यनाथ और केशव मौर्य को अपने सांसद पदों से इस्तीफा देना होगा. योगी गोरखपुर से सांसद है तो केशव फूलपुर से सांसद है. ऐसे में इनके इस्तीफे के बाद दोनों सीटों के लिए छह माह में उपचुनाव होगा. सपा के राष्ट्री अध्यक्ष दोनों संसदीय क्षेत्रों के कार्यकर्ताओं के साथ 2 घंटे तक मंथन किया. उन्होंने कार्यकर्ताओं से कहा कि दोनों सीटों पर चुनाव जीतकर झूठ की राजनीति करने वालों को जवाब देना है.

Friday, 24 March 2017

BREAKING: हादसे में बुरी तरह घायल हुए लालू यादव - कमर टूटी, ICU में भर्ती..पढ़े पूरी खबर

लालू यादव को पटना स्थित इंदिरा गाँधी मेडिकल इंस्टिट्यूट में इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है
लालू यादव की कमर टूट गयी है, और उनकी स्तिथि नाजुक बनी हुई है


हुआ ये था की लालू यादव पटना के दीघा में एक कार्यक्रम में गए थे, इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री भी आने वाले थे, स्टेट पर लालू यादव पहले आ गए और स्टेज टूट गया
जिसके बाद लालू यादव वही धड़ाम से गिर गए, जिसके बाद उनकी स्तिथि नाजुक हो गयी

उन्हें तुरंत अस्पताल में ले जाया गया, जहाँ  उनकी कमर टूटी हुई बताई जा रही है, यानि मामला गंभीर है
लालू यादव की स्तिथि ऐसी है की अधिक जानकारी भी नहीं दी जा रही है
मामला गंभीर प्रतीत हो रहा है

बता दें की लालू यादव अभी सजायाफ्ता है, और जमानत पर बाहर चल रहे है
 आपको ये भी बता दें की, योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही लालू यादव ने काफी अनाब शनाब बोला था
अब योगी जी एक महंत हैं, सन्यासी हैं, ये भी मुमकिन है की लालू को भगवान् ने इसी की सजा दी हो 

अभी-अभी: योगी जी ने संविधान के खिलाफ जाकर ले लिया ये बड़ा फैसला, up में आया भूचाल...


नई दिल्ली| लोकसभा में कांग्रेस की सांसद रंजीत रंजन ने गुरुवार को कहा कि उत्तर प्रदेश में यादव और कुछ अन्य जातियों को निशाना बनाया जा रहा है। इसके अलावा उन्होंने राज्य में ‘रोमियोरोधी’ दस्ते के गठन पर भी सवाल उठाया। रंजन ने शून्यकाल के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए कहा, “एक आईपीएस अधिकारी का कहना है कि एक खास जाति को निशाना बनाया जा रहा है। उत्तर प्रदेश में जिस तरीके से यादवों, मुस्लिमों और दलितों के खिलाफ नफरत फैलाई जा रही है, वह हमारे संविधान के खिलाफ है। इससे पूरे यूपी में भूचाल सा आ गया है।”
यूपी में भूचाल

गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हालांकि सदस्यों को आश्वस्त किया कि राज्य में जाति के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होने दिया जाएगा।
राजनाथ सिंह ने कहा, “अभी सरकार गठन के केवल दो-तीन दिन हुए है। वहां जाति, पंथ या धर्म के आधार पर कोई भेदभाव नहीं होगा। मुख्यमंत्री (योगी आदित्यनाथ) का भी यही कहना है। कोई भेदभाव नहीं होगा।”
2010 बैच के भारतीय पुलिस सेवा के अधिकारी हिमांशु कुमार, जो लखनऊ के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) कार्यालय में पदास्थापित हैं, ने एक ट्वीट में कहा कि ‘यादव’ उपनाम वाले लोगों को निशाना बनाया जा रहा है। हालांकि, बाद में उन्होंने वह ट्वीट हटा दिया।
रंजन ने ‘रोमियोरोधी दस्ते’ की भी कड़ी आलोचना की जिसका विधानसभा चुनावों के बाद उत्तर प्रदेश में गठन किया गया है।
रंजन ने कहा, “मैं यह नहीं कहती कि मैं अश्लीलता के खिलाफ नहीं हूं। लेकिन, वे किस अधिकार से लड़के और लड़कियों को साथ चलने से रोक रहे हैं। यहां तक कि भाई और बहन अगर साथ चलें, तो उसे भी संदिग्ध की नजरों से देखा जा रहा है। क्या प्यार करना जुर्म है? क्या अब गर्लफ्रेंड और ब्यायफ्रेंड बनना भी जुर्म है? क्या सरकार निर्धारित करेगी कि पार्क में किस तरीके से बैठना है?”

Videos